एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 : मधु मक्खी पालको को सरकार दे रही है 90% तक की सब्सिडी ।

एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 क्या है ?

बिहार सरकार ने राज्य के मधु मक्खी पालको के लिए एक नई सब्सिडी योजना की घोषणा की। एकीकृत बागवानी विकास योजना के अंतर्गत मधु मक्खी पालको 75% से 90% तक अनुदान सीधे खाते में प्रदान किया जाएगा।

बिहार राज्य के इच्छुक मधु-मक्खी पालको अगर एकीकृत बागवानी विकास योजना का लाभ लेना है तो ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। 

आवेदन की प्रक्रिया को आसानी से समझने के लिए इस आर्टिक्ल को पूरा पढे एवं हमारे video tutorial को जरूर देखे । 

एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना के अंतर्गत “सामुदायिक नलकूप योजना“, “छत पर बागवानी“, “शुष्क बागवानी योजना”, “गेंदा फूल की खेती” आदि योजनाओ के लिए भी भारी अनुदान दिया जा रहा है। 

एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 Details in Highlights

योजना का नाम- एकीकृत बागवानी विकास योजना

लॉन्च किया गया- बिहार सरकार  द्वारा 

योजना शुरू की गई- 0000

मंत्रालय- कृषि विभाग, बिहार सरकार

लाभार्थी-बिहार राज्य के नागरिक 

उद्देश्य-  मधु-मक्खी पालको आर्थिक सहायता प्रदान करना 

अधिकतम अनुदान – 75%-90% तक सब्सिडि  

आवेदन प्रक्रिया- ऑनलाइन   

आधिकारिक वेबसाइट- https://horticulture.bihar.gov.in/ 

एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 की purpose(उद्देश्य)

बिहार सरकार ने एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 का शुरुआत बिहार के तमाम कृषक को अपने व्यवसाय में फुर्ति लाने एवम बाजार के प्रतिस्पर्धा से निपटने के लिए शुरू किया।

हालांकि अनुदान देने से किसान सबल होंगे और नए तकनीक एवम सभी संसाधनो से पूर्ण होकर योजना के लिए कार्य करेंगे।

इससे उनका भी जीवन स्तर सुधरेगा और बिहार के अर्थव्यवस्था को रफ्तार देगी जोकि बिहार का नागरिकों के लिए शुभ साबित होगा।

एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 के तहत दावा राशि(लाभ)

नागरिकों को एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 का लाभ प्राप्त करने के लिए  आवेदonline करना अनिवार्य होता है।

जिसके लिए हम आपको step by step guide करेंगे । और आपको सावधानी पूर्वक form को भरना है ।  

इस योजना के तहत आवेदकों को 75% और 90% की अनुदान राशि प्रदान की जायगी।

आगे योजनाओं का लाभ भी ले सकते है।

Related Post –

बिहार पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति: ऑनलाइन आवेदन करें (SC, ST, BC और EBC, OBC) तिथि, पंजीकरण, लॉगिन, दस्तावेज़ और पात्रता

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना: गर्भवती महिलाओं को मिलेगी Rs 10,000/- तक की राशि ।

पीएम विश्वकर्मा योजना 2023: कारीगरों/शिल्पकार को सितंबर से मिलेगा 3 लाख तक की राशि ।

आवश्यक documents 

  • लाभार्थी का वोटर कार्ड 
  • लाभार्थी का आधार कार्ड
  • लाभार्थी का जमीन रजिस्ट्री
  • लाभार्थी का बैंक पासबुक
  • लाभार्थी का पासपोर्ट साइज फ़ोटो
  • किसान पंजीकरण संख्या
  • नवनीत जमीन की रसीद या
  • जमीन की एलपीसी सर्टिफिकेट

Quick Links for एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023

लेख का नाम एकीकृत बागवानी विकास योजना
  Authority कृषि विभाग, बिहार सरकार
Official website https://horticulture.bihar.gov.in/
  कौन आवेदन कर सकता है?बिहार के किसान 
  Objectiveमधु-मक्खी पालको आर्थिक सहायता प्रदान करना  
अधिकतम दावा राशिRs 5,000/- & Rs 6,000/-

आवेदन प्रक्रिया- एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023

एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 द्वारा लाभ प्राप्त करने के इच्छुक आवेदक बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई यह बागवानी विकास योजना के तहत पंजीकरण करने के लिए निम्नलिखित सरल चरणों का पालन करना होगा:

  • मुख्यमंत्री बागवानी मिशन की आधिकारिक वेबसाइट(https://horticulture.bihar.gov.in/) पर जाएं।
एकीकृत बागवानी विकास योजना

  • Homepage पर आपको बहुत सारा योजना दिखेगा जिसमे आपको मुख्यमंत्री बागवानी मिशन पर क्लिक करना है। वाले योजना पर क्लिक करना है ।
एकीकृत बागवानी विकास योजना
  • फिर आपको आवेदन का प्रकार पूछा जाएगा जिसमे आपको kisan dbt पंजीकरण संख्या डालना है।
  • “आवेदन करें” विकल्प पर क्लिक करें।
  • आपके सामने आवेदन प्रपत्र खुलेगा, जिसे आपको ध्यान से भरना होगा।
  • आवश्यक दस्तावेजों को स्कैन करके अपलोड करें।
  • आवेदन प्रपत्र पूरा होने पर “सबमिट”

फॉर्म को सफलतापूर्वक एवम बिना कोई गलती किये भर दे । उसके बाद उसका प्रिंट निकाल ले।

Note-यहां पर ध्यान दे किसान का DBT पंजीकरण संख्या रहना अनिवार्य है। अगर यह पंजीकरण संख्या होगा तब ही आप योजना का लाभ ले सकते है।

DBT में पंजीकरण करने के लिए यहां क्लिक करे।Click Here

संक्षिप्त निरीक्षण

एकीकृत बागवानी विकास योजना 2023 का शिक्षा और आर्थिक उद्देश्य है, जो राज्य के गरीब कृषक को अपने व्यवसाय में फुर्ति लाने एवम बाजार के प्रतिस्पर्धा से निपटने के लिए किया गया है। इसका उद्देश्य कृषक आर्थिक सहायता प्रदान करने के साथ-साथ प्रशिक्षण देकर नागरिको को स्वालंबी बनाना है । ताकि वे आर्थिक एवं सामाजिक स्तर सुधार सके। योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा मधुमक्खी पालन का व्यवसाय शुरू करने पर  75% और 90% की अनुदान राशि प्रदान की जायगी। जो कि गरीब और बेरोजगार लोगों को आर्थिक सहायता प्रदान करने में मदद करेगी। 

ध्यान दें: इस लेख का उद्देश्य केवल जानकारी प्रदान करना है और हमारी तरफ से किसी भी तरह का कोई भी संबंध https://horticulture.bihar.gov.in/वेबसाइट से नहीं है।

Leave a Comment